Kavya Amritavali - Gulab Chand Sharma

Become published Author in 1 Month,get 10% off on Selected package Contact us

Kavya Amritavali
By Gulab Chand Sharma


हमारा समाज निरंतर प्रत्यनशील रहा है । भारतीय संस्कृति की अपनी एक अलग महानता है, जो सर्वविदित है । समाज के नव-निर्माण में शुरू से ही देश के महान कवियों ने समय-समय पर अपना योगदान दिया है । कहा जाता है कि,“साहित्य समाज को आइना दिखाने का कार्य करता है ।”साहित्यकारों का सबसे पहला धर्म ही होता है; समाज में पनप रही बुराईंयों के प्रति आवाज़ उठाना एवं समाज के नेक कार्यों की सराहना करना ।

ISBN: 9788193802007
Pages: 77
Language: Hindi
Available Types: Print, E-book
Genre: Poetry
Print Book: Rs.130 Rs.90 + 60-Shipping (Delivery in 7-9 working days)
e-Book: Rs.70 (PDF, delivered in 24 Working Hours)